विक्रम कोठारी से सीबीआई कर रही है पूछताछ, बरामद हुए महत्वपूर्ण दस्तावेज

कानपुर. कानपुर की मशहूर पैन कंपनी रोटोमैक के मालिक विक्रम कोठारी से सीबीआई की टीम उन्हें हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है. उनपर कई बैंकों के लगभग 4000 करोड़ रुपए गटक जाने का आरोप है. सीबीआई की टीम ने मंगलवार को सिटी सेंटर पहुंची जहां रोटोमैक कंपनी के दफ्तर पर कुछ महत्वपूर्ण फाइलों को अपने कब्जे में लिया है.
जिसके बाद रोटोमैक कंपनी के मालिक विक्रम कोठारी, साधना कोठारी और राहुल कोठारी समेत कई लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है. सूत्रों की माने तो सीबीआई की पूछताछ में खुलासा हुआ है कि बैंक से लोन लेकर वापस ना देने का ये खेल रोटोमैक कंपनी पिछले 10 साल से खेल रही थी. सीबीआई विक्रम कोठारी को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है. वहीं कानपुर में विक्रम कोठारी के कई ठिकानों पर सीबीआई और ईडी की छापेमारी जारी है.
सीबीआई ने विक्रम कोठारी, उनकी पत्नी और बेटे के पासपोर्ट को भी जब्त कर लिया है. विक्रम कोठारी के खिलाफ सीबीआई ने नई दिल्ली में एफआईआर दर्ज की है. बैंक आफ बड़ौदा की कानपुर रीजनल मैनेजर ने विक्रम कोठारी के खिलाफ आपराधिक साज़िश और धोखाधड़ी की धाराओं में रिपोर्ट दर्ज करवाया है. एफआईआर में 456 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी की बात कही गई है. फिलहाल दिल्ली सीबीआई की टीम विक्रम कोठारी से पूछताछ कर रही है.
गौरतलब है कि विक्रम कोठारी पर 4000 करोड़ रूपये अलग- अलग बैंकों से लोन लेकर डकारने का आरोप है. सीबीआई की टीम ने कोठारी के घर से 17 फाइलें जब्त की है. आरोप है कि कोठारी ने बैंक आफ बड़ौदा, इलाहाबाद बैंक, बैंक आॅफ इंडिया और यूनियन बैंक आॅफ इंडिया समेत कई सरकारी बैंकों से लोन लिया था. लोन लेने के बाद उन्होंने न तो मूलधन चुकाया और न ही उसका ब्याज बैंक को दिया.