दावोस : पीएम मोदी दुनिया के टॉप 40 सीईओ से मिल भारत की नीतियों और विकास के संभावनाओं की दी जानकारी

नई दिल्ली। वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम में हिस्सा लेने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज से स्विट्जरलैंड के दावोस में हैं। सोमवार की शाम दावोस पहुंचे पीएम मोदी ने दुनिया की तमाम बड़ी कंपनियों के सीईओ के साथ प्राइवेट राउंडटेबल डिनर किया। इस दौरान उन्होंने भारत की नीतियों और यहां विकास की संभावनाओं की जानकारी सभी सीईओ को दी।
पीएम मोदी ने दुनिया के टॉप 40 सीईओ से कहा कि इंडिया का मतलब ही बिजनेस है। मोदी के साथ सीनियर अफसरों के साथ विजय गोखले, एस. जयशंकर और रमेश अभिषेक भी मौजूद थे। राउंड टेबल डिनर में 40 ग्लोबल कंपनियों के सीईओ और 20 भारतीय कंपनियों के सीईओ शामिल हुए। मीटिंग के बाद विदेश मंत्रालय प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट कर जानकारी दी कि मोदी ने तमाम सीईओ के साथ चर्चा में भारत के लगातार हो रहे विकास की बातें सामने रखीं।
पीएम मोदी 1997 के बाद इस प्रतिष्ठित वैश्विक व्यापारिक सम्मेलन के पूर्ण सत्र को संबोधित करने वाले पहले भारतीय प्रधानमंत्री होंगे। इससे पहले 1997 में अपने छोटे कायर्काल के दौरान देवेगौड़ा इस सम्मेलन में शामिल हुए थे। नरसिम्हा राव 1994 में इस सम्मेलन में शामिल होने वाले भारत के पहले प्रधानमंत्री थे। वाजपेयी और मनमोहन सिंह अपने कायर्काल के दौरान विश्व आर्थिक मंच के सम्मेलन में शामिल नहीं हुए थे।
सूत्रों के मुताबिक मोदी के सोमवार दोपहर बाद इस स्विस स्कीइंग रिजॉर्ट पहुंचेंगे। 24 घंटों के इस दौरे में वह कई द्विपक्षीय बैठकें करेंगे, सालाना आयोजन को संबोधित करेंगे और तमाम भारतीय और विदेशी कंपनियों के प्रमुखों से चर्चा करेंगे। मंगलवार को मोदी भारत रवाना होंगे। मोदी के साथ केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली, सुरेश प्रभु, पीयूष गोयल, धर्मेंद्र प्रधान, एम. जे. अकबर और जितेंद्र सिंह भी वहां जा रहे हैं।
हेल्थकेयर, मैन्युफैक्चरिंग, रिन्यूएबल एनर्जी, ई-कॉमर्स, इन्फ्रास्ट्रक्चर और दूसरे क्षेत्रों में नए अवसरों के साथ भारत के मानव संसाधन की क्षमता पर भी जोर रहेगा। पेप्सिको की सीईओ इंद्रा नूयी और माइक्रोसॉफ्ट के सत्य नडेला से लेकर एरिक्सन के सीईओ बोर एखॉम, क्वालकॉम के पॉल जैकब, थाइसेनक्रप के हेनरिख हेसिंगर, हिटाची के हिरावकी नाकानिशी, डीपी वर्ल्ड के सुल्तान अहमद बिन सुलायेम, आईबीएम के बॉस और डब्ल्यूईएफ के को-चेयर गिनी रॉमेटी और अलीबाबा के जैक मा इस आयोजन में शिरकत कर सकते हैं।
इनके अलावा स्वीडन की बड़ी एनर्जी कंपनी वेस्टास के एंडर्स रूनेवार्ड, आइकिया के जेस्पर ब्रोडिन, कार्लाइल पीई के को-फाउंडर डेविड रुबेंस्टीन और ब्लैकरॉक के लैरी फिंक के भी आने की उम्मीद है। सिटी, मॉर्गन स्टेनली, बैंक आॅफ अमेरिका मेरिल लिंच के अलावा वॉल्वो, अमेरिकन टॉवर्स, ट्रेडिंग कंपनी ट्रैफिगुरा, कुवैत इनवेस्टमेंट अथॉरिटी और अमेरिकन टावर्स कॉरपोरेशन के चीफ एग्जिक्यूटिव्स और चेयरमेन आमंत्रित किए गए हैं।
इन अतिथियों के लिए परंपरागत भारतीय व्यंजन परोसे जाएंगे, जिन्हें ताज ग्रुप के 32 शेफ्स तैयार करेंगे। शेफ्स अपने साथ तरह तरह के 1000 किलो मसाले ले गए हैं। मेन्यू में खुंब मसालेदार और दम आलू बनारसी के अलावा गोभी-मटर की तहरी, मुर्ग तरीवाला और शिकमपुरी कबाब भी हैं। डेजर्ट्स में गाजर हलवा केक, इलायची भापा दोई, कोकोनट चिक्की और सुखरी क्रंब शामिल होंगे।
टॉप सीईओ का एक दल भारत का प्रतिनिधित्व करेगा। इस प्रतिनिधिमंडल में करीब 100 लोग होंगे। इनमें मुकेश अंबानी, एन चंद्रशेखरन, राहुल बजाज, अजीम प्रेमी, सुनील मित्तल, सज्जन जिंदल, गौतम अडानी, आनंद महिंद्रा, बाबा कल्याणी, पवन मुंजाल, हरि भरतिया, उदय कोटक और चंदा कोचर भी होंगे।
अगले दिन डब्ल्यूईएफ के मुख्य सेशन के बाद पीएम इस फोरम की इंटरनेशनल बिजनस काउंसिल से मुलाकात करेंगे, जिसमें करीब 120 सीनियर ग्लोबल लीडर होंगे। यह सीरियल एक एडवाइजरी बॉडी की तरह काम करती है। (एजेंसी)