जम्मू-कश्मीर : सोपोर में आतंकी हमला, चार पुलिसकर्मी शहीद

श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर में बारामुला जिले के सोपोर में गश्त के दौरान चार पुलिसकर्मी आईईडी ब्लास्ट में शहीद हो गए. अधिकारियों ने बताया कि ये विस्फोटक आतंकियों ने ‘छोटा बाजार’ और ‘बड़ा बाजार’ के बीच एक दुकान के पास प्लांट किया था. पुलिसकर्मी अलगाववादियों द्वारा प्रायोजित हड़ताल को देखते हुए इलाके में गश्त कर रहे थे.
सोपोर में 6 जनवरी, 1993 को 50 से ज्यादा नागरिक मारे गए थे. इसी घटना के विरोध में अलगाववादियों ने आज सोपोर बंद कर रखा है. बंद की वजह से इस इलाके में भारी संख्या में पुलिस और अधर्सैनिक बलों को तैनात किया गया था. सूत्रों के मुताबिक इसी कारण आतंकियों ने यहां बम प्लांट किया था. विस्फोट की खबर मिलते ही वरिष्ठ पुलिस अधिकारी हालत का जायजा लेने के लिए सोपोर पहुंचे हैं.
जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने ट्वीट कर चार जवानों की शहादत पर दुख व्यक्त किया और शहीद जवानों के परिवार के लिए सांत्वना जाहिर की. बता दें कि जम्मू कश्मीर में लगातार बफर्बारी के चलते घुसपैठ और आतंकी गतिविधियों में बड़ा इजाफा हुआ है. सरहद पर पाकिस्तान की ओर से लगातार सीजफायर का उल्लंघन किया जा रहा है. इस बीच शनिवार को आतंकी हमले की खबर आई है.
जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर शुक्रवार को भारत एवं पाकिस्तान के सैनिकों के बीच भारी गोलीबारी हुई. रक्षा मंत्रालय के सूत्रों ने कहा कि यह झड़प तब शुरू हुई जब पाकिस्तानी सेना ने शाहपुर क्षेत्र में भारतीय ठिकानों पर गोलीबारी शुरू कर दी.
एक अधिकारी ने बताया, ‘हमने दृढ़ता और प्रभावी तरीके से इसका जवाब दिया. हमारी तरफ से किसी भी तरह की क्षति की रिपोर्ट नहीं है.’ सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने गुरुवार को जम्मू के अरनिया सेक्टर में अंतर्राष्ट्रीय सीमा के पास पाकिस्तान की ओर से आतंकवादियों के घुसपैठ की कोशिश विफल कर दिया था.
बीएसएफ ने एक घुसपैठिये को मार गिराया था. पुलिस ने कहा कि बिना हथियार वाला यह घुसपैठिया पाकिस्तानी आतंवादियों को कश्मीर में घुसपैठ कराने वाला गाइड हो सकता है. आतंकी वापस पाकिस्तान भागने में सफल रहे. बीएसएफ ने कहा कि उसने गुरुवार को पाकिस्तान के दो मोर्टार पिकेट को भी तबाह कर दिया.