राम रहीम के डेरे में तलाशी जारी……

चंडीगढ़। सिरसा में गुरमीत राम रहीम के डेरे पर शनिवार को भी पुलिस का तलाशी अभियान जारी है। इस दौरान पुलिस ने डेरे परिसर के अंदर से विस्फोटक जब्त किए हैं। हरियाणा सरकार के जनसंपर्क विभाग के उपनिदेशक सतीश मिश्रा ने साथ ही बताया कि डेरा परिसर के भीतर एक अवैध पटाखा फैक्ट्री भी चलाई जा रही थी, जिसे सील कर दिया गया है।
वहीं डेरे के भीतर से नर-कंकालों को दबाए जाने की खबरों को लेकर जब मिश्रा से पूछा गया, तो उन्होंने कहा कि अभी इस बारे में कुछ भी नहीं बताया जा सकता है। इस मामले में जांच के लिए विशेषज्ञों की टीम बुलाई है। दरअसल सिरसा स्थित डेरा परिसर बहुत ही बड़ा है और वहां रविवार से ही खुदाई का काम शुरू हो पाएगा। खुद को स्वयंभू संत बताने वाले राम रहीम की जड़ें खंगालने में अच्छा खासा वक्त लग सकता है और तब तक लंबी-चौड़ी सर्च टीम भी अभियान में जुटी रहेगी।

बाबा राम रहीम के सच्चा सौदा डेरे से क्या-क्या मिले सामान
सर्च टीम को 1200 नए नोट, 7000 पुराने नोट मिले हैं जिनकी कुल कीमत चंद हजार से ज्यादा नहीं होगी।
प्लास्टिक की करेंसी मिली है जिसका इस्तेमाल डेरा के अंदर होने वाली सामानों की खरीद-फरोख्त में होता था।
टेलीविजन प्रसारण में इस्तेमाल वाला ओवी बैन मिला है।
बिना नंबर वाली काले रंग की लेक्सस लग्जरी कार मिली है।
कंप्यूटर, लैपटॉप, हार्ड डिस्क मिले हैं जिनसे कुछ सुराग मिल सकते हैं।
भारी मात्रा में बिना लेवल वाली दवाइयां भी मिली हैं। हो सकता है इनका इस्तेमाल समथर्कों को झांसा देने में होता हो।
डेरा सच्चा के दो कमरों को सर्च टीम ने सील कर दिया है।
डेरे से 2 नाबालिग समेत 5 लोग मिले।
अभी तो ये शुरुआत है। राम रहीम के अधमर्कांड के कई अध्याय आगे खुलेंगे। लेकिन बडा सवाल है कि ये सर्च अभियान 15 दिन बाद शुरू हुआ है। चश्मदीद कह रहे हैं बाबा ने ट्रकों में भर-भरकर जुर्म के सबूत डेरा से बाहर भेज दिए हैं।
शुक्रवार की सुबह साढ़े 10 बजे के करीब सर्च टीम डेरा सच्चा सौदा के भीतर दाखिल हो गई थी। सर्च टीम पहली बार गुरमीत सिंह के उस रहस्यमयी गुफा में भी दाखिल हुई जिसके बारे में कई कहानियां हैं। टीम ने राम रहीम के ध्यान सेंटर की भी तलाशी ली। डेरा के भीतर बने प्रिंटिंग प्रेस, गेस्ट हाउस, एमसीजी मार्ट की छानबीन से भी सर्च टीम को कई सबूत मिले हैं। हनीप्रीत के नाम पर राम रहीम ने बाकायदा गारमेंट फैक्ट्री लगाई है, सर्च टीम वहां भी गई।
आजतक के 5 संवाददाताओं ने इस मेगा सर्च आॅपरेशन को पूरे दिन फॉलो किया। पहली बार डेरा सच्चा के अंदर की तस्वीरें बाहर आई हैं। जिसमें राम रहीम की अकूत दौलत का भी राज खुल रहा है। 15 दिन कोर्ट से इजाजत लेने और सुरक्षा तैयारियों में लग गए। पूरा खतरा है कि बाबा के चेलों ने इस दौरान सबूतों पर हाथ साफ कर दिए हैं। आज पहले दिन तलाशी में मिले सामान से बाबा की घेराबंदी हो पाएगी, ये कहना मुश्किल है।
डेरा हेडक्वार्टर में तलाशी अभियान के लिए सैटेलाइट के जरिए डेरा का मैप निकाला गया।
अलग-अलग हिस्सों में बांटकर एक्शन प्लान तैयार किया गया।
36 ट्रैक्टर-ट्राली, 10 जेसीबी और तीन दर्जन रोडवेज बसें मंगाई गईं।
60 वीडियोग्राफर हायर किए गए।
डेरा के आसपास 16 नाके बनाए गए।
पैरा मिलिट्री फोर्सेस की 41 कंपनियां तैनात की गई।
आर्मी के 4 कॉलम, 4 जिलों की पुलिस फोर्स तैनात थी।
7 आईपीएस और 100 इन्वेस्टिगेशन अफसर बुलाए गए।
ये सूची बेहद लंबी है, सर्च अभियान में बम स्क्वाय़ड, स्वैट तक की टुकड़ी तैनात की गई है। लेकिन सबसे जरूरी ये है कि राम रहीम के आतंक से सिरसा और उसके समथर्कों को मुक्त किया जाए। राम रहीम के जेल जाने के बाद भी उसके बारे में बात करने से लोग डरते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *