…तो टूटेगा आईएनएस विराट !

नई दिल्ली। सोमवार को भारतीय विमान वाहक पोत आईएनएस विराट रिटायर हो रहा है। विराट 30 वर्षों तक सेवा देने के बाद रिटायर हो रहा है। बताया जा रहा है कि रिटायरमेंट के बाद ‘आईएनएस विराट’ को बिक्री के लिए खोल दिया जाएगा।
बताया जा रहा है कि अगर अगले 4 माह में आईएनएस विराट को कोई खरीदार नहीं मिला तो विराट को तोड़ने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी और इस तोड़ दिया जाएगा।
गौरतलब है कि आईएनएस विराट उन्नत किस्म का दूसरा विमान वाहक पोत है, जिसने भारतीय नौसेना में 30 वर्ष तक सेवा दी है और इससे पहले उसने ब्रिटेन के रॉयल नेवी में 25 वर्षों तक सेवा दी। इसका ध्येय वाक्य ‘जलमेव यस्य, बलमेव तस्य’ थ। जिसका मतलब होता है जिसका समंदर पर कब्जा है वही सबसे बलवान है।
आईएनएस विराट को सेवा से हटाए जाने के बाद हमारे पास दो विमान वाहक पोत कम हो जाएंगे क्योंकि आईएनएस विक्रांत को पहले ही सेवा से हटाया जा चुका है।
एचएमएस हर्मीस के नाम से पहचाने जाने वाला पोत 1959 से रॉयल नेवी की सेवा में था। 1980 के दशक में भारतीय नौसेना ने इसे साढ़े छह करोड़ डॉलर में खरीदा था और 12 मई 1987 को सेवा में शामिल किया।
आईएनएस विराट का नाम गिनीज बुक आॅफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल है। ये दुनिया का एकलौता ऐसा जहाज है जो इतना बूढ़ा होने के बाद भी इस्तेमाल किया जा रहा था और बेहतर हालत में था। इसे ‘ग्रेट ओल्ड लेडी’ के नाम से भी जाना जाता है। पश्चिमी नौसेना कमान की तरफ से बताया गया था कि यह इतिहास में सबसे ज्यादा सेवा देने वाला पोत है।