बेडरूम में घुस किया दुष्कर्म का प्रयास, नाकाम रहने पर की हत्या

<p style=”text-align: justify;”>उदयपुर। रुचिता हत्या कांड को लेकर पहले दिन से सवालों में घिरी पुलिस ने रविवार को एक और नया खुलासा किया है। पुलिस की भूमिका पर मीडिया की ओर से सवाल उठाए जाने पर पुलिस ने माना है कि जांच को लेकर हत्या वाले दिन से ही पुलिस से चूक हुई है। डीएसपी गोपाल सिंह भाटी ने कहा है कि आरोपी दिव्य कोठारी, ( जिसे पहले बच्चा और साइकिक बताया जा रहा था) पागल नहीं है। वह पागल होने का नाटक कर रहा है, जबकि उसने हत्या से पहले रुचिता के साथ दुष्कर्म का प्रयास किया था। घटना के दिन दिव्य पहले रुचिता कै बेडरूम में गया। जिसके बाद दुष्कर्म का प्रयास करने लगा। महिला के विरोध के बाद आरोपी ने उसकी हत्या कर दी। सुबह 8.45 से 10.30 बजे तक रहा था फ्लैट में, कछुए की फोटो भी खींची…
पुलिस ने कॉल डिटेल, पूछताछ के आधार पर बताया कि अपाटर्मेंट में दो लिफ्ट हैं। सुबह 8.45 पर दूधवाला फ्लेट नंबर 702 में रुचिता को दूध देकर लिफ्ट में गया, दूसरी लिफ्ट से दिव्य उसी समय सातवें फ्लोर पर आया। गेट खुला देखकर सीधे रुचिता के फ्लेट में चला गया। उसने न तो कोई दवाई खाई थी और न ही नशे में था। अंदर जाकर रुचिता से मामूली बातचीत की। 9.07 बजे उसने बेडरूम में घूम रहे कछुए की फोटो खींची। इसके बाद दिव्य ने रुचिता के साथ दुष्कर्म का प्रयास किया। रुचिता ने विरोध किया, जिससे रुचिता के आगे के कपड़े भी फट चुके थे।
दुष्कर्म में सफल नहीं होने पर दिव्य ने साइकिल टूल बॉक्स के पाने से उस पर हमला बोल दिया। घायल करने के बाद भी उस पर दुष्कर्म का प्रयास किया और कपड़े खोलने का प्रयास किया। बचने के लिए रुचिता भागते हुए स्टोर रूम में गई। दिव्य ने घायल रुचिता पर तब तक वार किए जब तक वह मर नहीं गई। हत्या करने के बाद सोफे पर बैठा, उसके बाद शॉवर लिया। दिव्य को लगा कि रुचिता का पति आ सकता है तो खून से सनी जींस खोलकर बैग में रखी और सुबह 10.30 बजे फ्लेट से निकलकर बाइक लेकर चला गया। पुलिस का कहना है कि आरोपी की आत्महत्याओं के प्रयास की कहानियां भी झूठी साबित हो रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *