10000 वनडे रन पूरे करने वाले बल्लेबाज बन गए विराट, दूसरा वनडे टाई

विशाखापट्टनम। ‘रन मशीन’ विराट कोहली एक और शतक लगाकर सबसे तेजी से 10000 वनडे रन पूरे करने वाले बल्लेबाज बन गए लेकिन शाइ होप के जुझारू शतक की मदद से वेस्टइंडीज ने बुधवार को दूसरा एक दिवसीय क्रिकेट मैच टाई करा लिया। भारत ने कोहली की पारी के दम पर छह विकेट पर 321 रन बनाये। वेस्टइंडीज को आखिरी ओवर में जीत के लिये 14 और आखिरी गेंद पर पांच रन चाहिये थे। होप (नाबाद 123) ने उमेश यादव को चौका लगाकर स्कोर बराबर कर दिया। शिमरोन हेटमेयर ने भी 94 रन की शानदार पारी खेली। भारत के लिये कुलदीप यादव ने तीन विकेट लिये।

इससे पहले टास जीतकर बल्लेबाजी चुनने वाले कोहली ने 129 गेंद में नाबाद 157 रन बनाये जबकि अंबाती रायुडू ने 80 गेंद में 73 रन की पारी खेली। कोहली ने अपनी पारी में 13 चौके और चार छक्के जड़े। कोहली और रायुडू ने तीसरे विकेट के लिये 142 गेंद में 139 रन जोड़े। कोहली ने 10000 रन पूरे होने पर बल्ला उठाकर दर्शकों का अभिवादन स्वीकार किया। कोहली ने जब मर्लोन सैमुअल्स को चौका जड़कर अपना 37वां वनडे शतक पूरा किया तो भी दर्शकों ने तालियों की गड़गड़ाहट के साथ उनका स्वागत किया।
बायें हाथ के तेज गेंदबाज ओबेद मैकाय को छक्का लगाकर उन्होंने इस कैलेंडर वर्ष में 1000 वनडे रन पूरे किये और ऐसा उन्होंने सिर्फ 11 पारियों में किया जो एक रिकार्ड है। इसके बाद उन्होंने मैकाय को ही लांग आन पर एक और छक्का लगाया जबकि अगले ओवर में रोच को छक्का और दो चौके लगाकर टीम को 300 रन के पार पहुंचाया।

भारतीय टीम की शुरूआत खराब रही जब पिछले मैच में शतक जमाने वाले रोहित शर्मा (चार) को चौथे ओवर में रोच ने पवेलियन भेजा। इसके बाद कोहली मैदान पर उतरे। शिखर धवन ने 30 गेंद में 29 रन की अपनी पारी में चार चौके और एक छक्का लगाया। वह एशले नर्स की गेंद पर पगबाधा आउट हुए। नौवे ओवर में भारत का स्कोर दो विकेट पर 40 रन था। कोहली को मिडआफ पर कैरेबियाई कप्तान जैसन होल्डर ने जीवनदान दिया। इसके अलावा उनकी पूरी पारी बेदाग रही। दूसरे छोर से रायुडू ने उनका पूरा साथ दिया। विश्व कप में भारतीय टीम में चौथे नंबर पर उतरने के दावेदारों में शामिल रायुडू ने कप्तान के भरोसे पर खरे उतरते हुए अपनी पारी में आठ चौके लगाये। दर्शकों के चहेते महेंद्र सिंह धोनी 20 रन बनाकर मैकाय की गेंद पर बोल्ड हुए। ऋषभ पंत ने 13 गेंद में 17 रन बनाये।
वेस्टइंडीज को जीत के लिये 322 रन का कठिन लक्ष्य मिला। कीरान पावेल और चंद्रपाल हेमराज ने शुरूआत में कुछ चौके लगाये लेकिन मोहम्मद शमी ने पावेल को विकेट के पीछे लपकवाकर भारत को पहली सफलता दिलाई। कुलदीप ने हेमराज की पारी का अंत किया जिसने 24 गेंद में 32 रन बनाये थे । इसके बाद उसने मर्लोन सैमुअल्स (13) को बोल्ड किया । वेस्टइंडीज का स्कोर 12 ओवर में तीन विकेट पर 78 रन था।

इसके बाद हेटमेयर और शाइ होप ने चौथे विकेट के लिये 143 रन जोड़े। पहले मैच में शानदार शतक लगाने वाले हेटमेयर ने उसी लय को कायम रखते हुए भारतीय स्पिनरों की धुनाई की। युजवेंद्र चहल के एक ओवर में तो उसने 18 रन निकाले। चहल ने ही हेटमेयर को पवेलियन भेजा। उस समय वेस्टइंडीज को 18 ओवर में 101 रन चाहिये थे। आखिरी दस ओवर में वेस्टइंडीज को 63 रन की जरूरत थी और उसके पांच विकेट बाकी थे लेकिन वे जीत दर्ज नहीं कर सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *