हनीप्रीत ने कबूला, मेरे इशारे पर हुई थी हिंसा, रुपए भी बांटे थे

चंडीगढ़। रिमांड के दौरान राम रहीम की करीबी हनीप्रीत ने कबूल किया कि पंचकूला में हिंसा उसके इशारे पर हुई। एसआईटी के मुताबिक, हनीप्रीत ने बताया कि हिंसा के लिए उसने सवा करोड़ रुपए भी बांटे थे। रिमांड के बाद मंगलवार को एसआईटी कोर्ट ने हनीप्रीत और सुखदीप कौर को पंचकूला कोर्ट में पेश किया था। इससे पहले हनीप्रीत को 4 अक्टूबर को कोर्ट में पेश किया गया था। इस दौरान हनीप्रीत ने रोते हुए कहा था कि मैं निर्दोष हूं। हनीप्रीत पर 25 अगस्त को पंचकूला में हुई हिंसा की साजिश रचने का आरोप है। पंचकूला हिंसा में 36 लोग मारे गए थे और सिरसा में भी 5 की मौत हुई थी। लैपटॉप से मिले सबूत।
मंगलवार को पेशी के दौरान एसआईटी ने कोर्ट में कहा, हनीप्रीत ने देश विरोधी वीडियो वायरल किया था। इस वीडियो में नारेबाजी की गई थी कि अगर राम रहीम को सजा हुई तो हिंदुस्तान का नक्शा दुनिया से मिटा देंगे। हनीप्रीत के मोबाइल में हैं। पंचकूला में दंगा कराने के लिए हनीप्रीत के मार्क किए मैप लैपटॉप में हैं।
एसआईटी ने कहा, मोबाइल और लैपटॉप बरामद करने हैं। मोबाइल बठिंडा में सुखदीप कौर के भाई के पास है। इसके अलावा हनीप्रीत पवन, आदित्य और गोबीराम के ठिकाने जानती है।” एसआईटी हनीप्रीत को लेकर एक बार फिर बठिंडा जा सकती है।
राम रहीम को रेप केस में दोषी करार दिए जाने के बाद हनीप्रीत बाबा के साथ पुलिस के हेलिकॉप्टर से रोहतक की सुनारिया जेल पहुंची थी। इसके बाद से हनीप्रीत गायब थी। डेरे की चेयरपर्सन विपासना इंसा ने कहा था कि हनीप्रीत 25 अगस्त की रात को उसके साथ डेरा सच्चा सौदा सिरसा आई थी। इसके बाद अगले दिन वह वहां से निकल गई। 39 दिन उसका कोई अता-पता नहीं चला। 3 अक्टूबर को हनीप्रीत को सुखदीप कौर नाम की महिला के साथ अरेस्ट किया गया था।
4 अक्टूबर को हनीप्रीत को कोर्ट में पेश किया गया। हनीप्रीत के वकील के मुताबिक, हनीप्रीत कोर्ट रूम में रोते हुए बोल रही थी कि एक तरफ वुमन एम्पॉवरमेंट की बात की जाती है और दूसरी ओर बेगुनाह औरत को 6 दिन की पुलिस रिमांड पर भेजा जा रहा है। उसे डेरा चीफ राम रहीम ने गोद लिया था, वो उनकी सच्ची बेटी है। 25 अगस्त के बाद जो घटनाएं हुई हैं, उनमें हनीप्रीत का कोई हाथ नहीं है। उसे जानबूझकर इन सबमें फंसाया जा रहा है। इतने दिन तक अंडरग्राउंड रहने की वजह ये थी कि हनीप्रीत डिप्रेशन में थी।
दो साध्वियों से रेप के मामले में 25 अगस्त को राम रहीम को सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने दोषी करार दिया था। इसके बाद डेरा सच्चा सौदा के फॉलोअर्स ने हरियाणा और पंजाब समेत कई राज्यों में हिंसा शुरू कर दी थी। पंचकूला में फॉलोअर्स ने गाड़ियां फूंकी, पेट्रोल पंप जलाई, सरकारी और प्राइवेट दफ्तरों में आगजनी की। सिरसा का भी यही हाल था। हिंसा में 41 लोगों की जान गई, इनमें 36 की जान केवल पंचकूला में ही गई थी।
हनीप्रीत इंसां के पिता रामानंद तनेजा और मां आशा तनेजा फतेहाबाद के रहने वाले हैं। हनीप्रीत का असली नाम प्रियंका तनेजा है। हनीप्रीत के पिता राम रहीम के फॉलोअर थे। वे अपनी सारी प्रॉपर्टी बेचने के बाद डेरा सच्चा सौदा में अपनी दुकान चलाने लगे। 14 फरवरी 1999 को हनीप्रीत और विश्वास गुप्ता की सत्संग में शादी हुई। इसके बाद बाबा ने हनीप्रीत को अपनी तीसरी बेटी घोषित कर दिया। हनीप्रीत राम रहीम के प्रोडक्शन में बनी फिल्मों में एक्टिंग और डायरेक्शन भी कर चुकी है।
28 अगस्त को डेरा सच्चा सौदा चीफ राम रहीम को दो साध्वियों का रेप करने के केस में सीबीआई की स्पेशल कोर्ट के जज जगदीप सिंह लोहान ने 10-10 साल की सजा सुनाई थी। सजा के एलान के दिन राम रहीम ने अपने ह्यअच्छे काम गिनाने के लिए सोशल वर्क्स की बुकलेट भी कोर्ट रूम में पेश की, लेकिन जज ने कहा कि ऐसे शख्स के लिए कोई रहमदिली नहीं दिखा सकते। अपने 9 पेज के आॅर्डर में जज ने कहा- जिसने अपनी साध्वियों को ही नहीं छोड़ा और जो जंगली जानवर की तरह पेश आया, वह किसी रहम का हकदार नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *