सीसीआर्ई ने बीसीसीआई पर 52 करोड़, 24 लाख रुपये का लगाया जुर्माना

नर्ई दिल्ली। भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआई) ने बुधवार को ईंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के मीडिया अधिकार के मामले में प्रतिस्पर्धा रोधी गतिविधियों के लिए भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) पर 52 करोड़, 24 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है।
ईससे पहले, फरवरी 2013 में भी सीसीआर्ई ने बीसीसीआई पर इतना ही जुर्माना लगाया था, लेकिन बीसीसीआई के अपील करने पर अपील पंचाट ने ईसे खारिज कर दिया था। सीसीआई ने 44 पन्ने के अपने आदेश में कहा है कि यह जुर्माना पिछले तीन वित्त वर्ष में बीसीसीआई के टर्नओवर का लगभग 4.48 प्रतिशत है। बीसीसीआई की तीन वित्त वषों 2013-14, 2014-15 और 2015-16 में औसत कमार्ई 1164.7 करोड़ रुपये रही है।
सीसीआई ने कहा, ‘आयोग के आकलन में स्पष्ट तौर पर पता चला है कि बीसीसीआई ने प्रसारण अधिकारों की बोली लगाने वालों के व्यावसायिक हित के अलावा बीसीसीआई के आर्थिक हितों को बचाने के लिए जानबूझकर मीडिया अधिकार करार में से एक नियम हटाया।’ फरवरी 2013 में भी सीसीआई ने बीसीसीआई पर 52 करोड़, 24 लाख रुपये का जुर्माना लगाया था।
मौजदूा समय में औसत कमार्ई कुछ ज्यादा थी, लेकिन सीसीआई ने कहा कि वह जुर्माने की राशि को बरकरार रखने को प्राथमिकता देता है। बीसीसीआई ने सीसीआई के फरवरी 2013 के आदेश के खिलाफ जब अपील की थी तो तत्कालीन प्रतिस्पर्धा अपील पंचाट ने इस आदेश को खारिज करते हुए इस मुद्दे को नए सिरे से देखने को कहा था।
पंचाट ने फरवरी 2015 में आदेश को रद कर दिया था, जिसके बाद नियामक ने अपनी जांच इकार्ई के महानिदेशक को आगे की जांच करने का आदेश दिया था। लेकिन महानिदेशक ने अपनी पूरक जांच रिपोर्ट मार्च 2016 में दायर की थी। हालांकि पूरक रिपोर्ट और भारतीय क्रिकेट बोर्ड के जवाब को देखने के बाद सीसीआई ने नवीनतम आदेश पारित किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *