पुलिस की चार्जशीट में दावा, सुनंदा को आत्महत्या के लिए मजबूर किया थरूर ने!

नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस ने सोमवार को यहां सुनंदा पुष्कर की मौत के मामले में उनके पति और कांग्रेसी नेता शशि थरूर पर खुदकुशी के लिए उकसाने का आरोप लगाते हुए पुलिस ने यहां एक अदालत में कहा कि उन्हें हिरासत में लेकर पूछताछ किये जाने की जरूरत है क्योंकि जांच अभी पूरी नहीं हुई है। करीब तीन हजार पन्नों के अपने आरोप पत्र में पुलिस ने मामले में थरूर को एक मात्र आरोपी बनाया है और दावा किया कि उनके खिलाफ आगे कार्रवाई के लिए पर्याप्त साक्ष्य हैं।

पुलिस ने यह भी आरोप लगाया है कि थरूर अपनी पत्नी से क्रूरता करते थे। पुलिस ने सोमवार को मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट धम्रेद्र सिंह के समक्ष आरोप पत्र दायर किया जो इस पर 24 मई को विचार करेंगे। पुलिस ने अदालत से तिरुवनंतपुरम से लोकसभा सांसद थरूर को आरोपी के तौर पर समन करने का भी अनुरोध किया है। दंपति का घरेलू नौकर नारायण सिंह इस मामले के प्रमुख गवाहों में से एक है। कांग्रेस नेता पर भारतीय दंड संहिता की धारा 498 ए (पति या उसके रिश्तेदारों द्वारा महिला को प्रताड़ित करना) और 306 ( खुदकुशी के लिए उकसाना) के तहत आरोप लगाए गए हैं। आरोप पत्र में कहा गया है कि पुष्कर की मौत थरूर से शादी के तीन साल तीन महीने और 15 दिन बाद हुई थी। दोनों की शादी 22 अगस्त 2010 को हुई थी। सुनंदा पुष्कर 17 जनवरी 2014 की रात दिल्ली के एक लग्जरी होटल के कमरे में मृत पायी गई थीं। अभियोजन के सूत्रों के मुताबिक आरोप पत्र में कहा गया है कि पुष्कर के साथ कथित तौर पर मानसिक और शारीरिक क्रूरता होती थी। आरोप पत्र में कहा गया कि सभी संभावित और भौतिक साक्ष्य जुटाए गए और उनका प्रमाणीकरण किया गया। यह महसूस किया गया कि मामले में उन्हें हिरासत में लेकर पूछताछ की जरूरत होगी। थरूर को इस मामले में गिरफ्तार नहीं किया गया है क्योंकि जब भी जरूरत हुई वह जांच में शामिल हुए हैं। दिल्ली हाईकोर्ट ने पिछले साल 26 अक्टूबर को सुनंदा पुष्कर की मौत के मामले में अदालत की निगरानी में एसआईटी जांच कराए जाने की मांग से जुड़ी भाजपा नेता सुब्रह्मण्यम स्वामी की जनहित याचिका को खारिज करते हुए इसे राजनीति से प्रेरित याचिका का उदाहरण बताया था। स्वामी बाद में सुप्रीम कोर्ट गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *