परीक्षा पर चर्चा : पीएम मोदी बोले- ये प्रधानमंत्री का कार्यक्रम नहीं करोड़ों बच्चों का कार्यक्रम है

नई दिल्ली. परीक्षा पर चर्चा के दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने छात्रों के सवाल पूछने से पहले वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए छात्रों को संबोधित करते हुए कई बातें कही। पीएम मोदी ने कहा कि 150 करोड़ छात्रों से रूबरू होने का मौका मिल रहा है। ये प्रधानमंत्री का कार्यक्रम नहीं करोड़ों बच्चों का कार्यक्रम है। पीएम ने कहा कि अगर विश्वास नहीं है तो कितनी भी मेहनत करेंगे सफल नहीं हो पाएंगे।

एक छात्रा की तरफ से पूछे गए ये सवाल कि अगर परीक्षा में नर्वस हैं तो इसका सामना करेंगे?

इस सवाल के जवाब में पीएम मोदी ने कहा कि 33 करोड़ देवी देवताओं की पूजा करो लेकिन अगर विश्वास नहीं तो कुछ भी नहीं। मोदी ने कहा कि आत्मविश्वास के बिना सफल नहीं हुआ जा सकता है। पीएम मोदी ने कहा कि उन्हें खेद है कि वह हर बच्चे की भाषा में बात नहीं कर सकते हैं।

 

 

पढ़ाई में ध्यान बंटे तो क्या करना चाहिए?

इस सवाल के जबाव में पीएम मोदी ने कहा कि ध्यान एकाग्रचित होने के लिए एक्स्ट्रा एक्टिविटी जरूरी है। पीएम मोदी ने कहा कि जब जो करे उसमें तल्लीन होकर करें। जब जो करें तो ऑनलाइन होने चाहिए। पीएम मोदी ने कहा कि खुद को जांचना परखना छोड़ दीजिए। उन्होंने कहा कि जिन चीजों में आपकी बुद्धि नहीं आपका हृदय भी जुड़ जाता है वह चीजें आपके जीवन का हिस्सा बन जाती है। उन्होंने योग का उदाहरण दिया।

पीएम मोदी ने कहा कि ध्यान का एकाग्रचित होना कोई ऐसी चीज नहीं है जिसे विशेष रूप से याद किया जा सके। हर किसी को दिनभर में कुछ चीजों पर अपने ध्यान को एकाग्रचित करना चाहिए। ये चाहें पढ़ाई हो, गाना सुनना हो या फिर दोस्तों से बातें करना हो।

यह कार्यक्रम दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में किया जा रहा है। वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए होने वाली इस चर्चा में देश भर के लाखों छात्र-छात्राएं शामिल हो रहे हैं। इस संवाद में पीएम मोदी कक्षा 9 से कॉलेज के द्वितीय वर्ष के छात्रों को संबोधित कर उन्हें परीक्षा की तैयारियों के गुर सीखा रहे हैं ताकि छात्रों को तनाव से मुक्ति मिले।

इस कार्यक्रम को ‘परीक्षा-एक उत्सव’ नाम दिया गया है। प्रधानमंत्री का मानना है कि परीक्षा एक उत्सव की तरह है जिसे पूरे उमंग और उल्लास के साथ मनाया जाना चाहिए। इस कार्यक्रम का सभी स्कूलों में प्रसारण सुनिश्चत करने के लिए केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने तमाम स्कूलों को कार्यक्रम के सीधे प्रसारण की व्यवस्था करने और छात्रों की उपस्थिति सुनिश्चत करने का आदेश जारी किया है।

सीबीएसई ने स्कूलों को एक प्रपत्र भी भेजा है, जिसे भरकर तस्वीरों और वीडियो के साथ उसे सीबीएसई के पास भेजना होगा। इस कार्यक्रम में करीब 10 छात्र-छात्राओं को जहां प्रधानमंत्री से सीधे सवाल पूछने का मौका मिलेगा, वहीं प्रधानमंत्री माईगॉव डॉट इन से चुने गए कुछ सवालों के जवाब भी दें रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *