ट्रंप और पुतिन में बढ़ रही हैं नजदीकियां

वॉशिंगटन। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिका के मजबूत आर्थिक प्रदर्शन की प्रशंसा करने के लिए अपने रूसी समकक्ष व्लादिमीर पुतिन का शुक्रिया अदा किया है. व्हाइट हाउस ने यह जानकारी दी है.
बता दें कि रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के वार्षिक संवाददाता सम्मेलन में ट्रंप की सराहना की थी. साथ ही व्लादिमीर पुतिन ने कहा कि अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव में रूस के हस्तक्षेप की कहानी डोनाल्ड ट्रंप के विरोधियों ने गढ़ी ताकि ट्रंप को बदनाम किया जा सके. इसके बाद दोनों नेताओं ने फोन पर बातचीत की.
व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव सारा हुकाबी सैंडर्स ने एक बयान में कहा, ‘राष्ट्रपति ने पुतिन से बातचीत की है. इस पर तत्काल कोई अन्य जानकारी मौजूद नहीं है. पुतिन ने कहा कि ट्रंप ने अमेरिका के राष्ट्रपति के तौर पर थोड़े से समय में ही कई अहम उपलब्धियां हासिल कर ली हैं.’ व्हाइट हाउस के बयान के मुताबिक, राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपने रूसी समकक्ष व्लादिमीर पुतिन का शुक्रिया अदा किया है.
व्हाइट हाउस ने बताया कि फोन पर बातचीत के दौरान दोनों राष्ट्रपतियों ने उत्तर कोरिया में खतरनाक स्थिति से निपटने के लिए एकसाथ काम करने पर भी चर्चा की.
रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन ने शुक्रवार को कहा कि अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव में रूस के हस्तक्षेप की कहानी डोनाल्ड ट्रंप के विरोधियों ने गढ़ी ताकि ट्रंप को बदनाम किया जा सके.
अमेरिकी चुनाव में रूस के हस्तक्षेप के आरोपों के बारे में पूछे जाने पर पुतिन ने कहा, ‘ये सब बातें ट्रंप के विरोधियों ने की हैं. वे उनके काम को बदनाम करना चाहते थे.’ उन्होंने कहा कि रूस सरकार के प्रतिनिधियों ने डोनाल्ड ट्रंप की टीम से मुलाकात की थी, लेकिन यह सामान्य राजनयिक प्रक्रिया है.
वहीं पुतिन ने उम्मीद जताई कि दोनों देशों के बीच संबंध सुधरेंगे, लेकिन साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि मौजूदा अमेरिकी राजनीतिक माहौल में यह संभव नहीं है.
बता दें कि अमेरिका के राष्ट्रपति चुनावों के नतीजों के बाद अमेरिकी खुफिया एजेंसियों ने यह आरोप लगाया था कि रूसी हैकरों ने चुनावों ने दौरान ट्रंप की प्रतिद्वंद्वी उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन के चुनाव प्रचार को नकारात्मक तरीके से प्रभावित किया था. इससे ट्रंप को अपने प्रचार अभियान में मदद मिली थी.
सीरिया संघर्ष और मध्य एशिया, मध्य पूर्व में आतंकवाद-रोधी लड़ाई के साथ ही उत्तरी कोरिया के परमाणु खतरे जैसे मुद्दों पर डोनाल्ड ट्रंप और व्लादिमीर पुतिन ने फोन पर एक घंटे से अधिक समय तक बात की थी. एक बयान में व्हाइट हाउस ने कहा था कि दोनों नेताओं ने 21 नवंबर को संयुक्त घोषणापत्र के लिए अपने समर्थन की पुष्टि की, जो इन दोनों देशों ने हालिया एशिया-प्रशांत आर्थिक सहयोग के दौरान स्वीकृत किया था. इसमें सीरिया में आतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट (आईएस) को हराने के लिए एकजुट होकर काम करने की प्रतिबद्धता जताई गई थी. (एजेंसी)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *