केंद्र सरकार पर कांग्रेस का हमला, गृहणियों पर जीएसटी का बोझ डाल दिया है

नई दिल्ली। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के भारत वापस आते ही पार्टी ने जीएसटी समेत कई मसलों पर सरकार पर हमला बोल दिया है। कांग्रेस प्रवक्ता अजय माकन ने मंगलवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि जीएसटी से सरकार ज्यादा टैक्स कमा रही है। उन्होंने खासकर एलपीजी को जीएसटी के दायरे में लाने की आलोचना करते हुए कहा कि सरकार एक तो एलपीजी पर मुनाफा कमा रही है और दूसरे उसने गृहणियों पर जीएसटी का बोझ डाल दिया है।
माकन ने कहा कि जीएसटी का मतलब है गई सेविंग तुम्हारी। चीन से तनाव पर माकन ने कहा कि एक तरफ चीन की तरफ से सरहद पर सीमा का उल्लंघन हो रहा है। दूसरे सरकार इसको मानती ही नहीं कि ये घुसपैठ चीन का तरफ से हो रही है। राहुल गांधी छुट्टियां मनाने के लिए विदेश गए थे। माकन ने कहा कि हमारे देश को पीएम के विदेशी दौरों से कोई फायदा नहीं हो रहा। पीएम का यह 65वां दौरा है। दुनिया भर का भ्रमण कर रहे हैं पीएम पर उपलब्धी कुछ नहीं, हमारे पड़ोसी देशों से ही संबंध बिगड़ रहे हैं।
गौरतलब है कि कांग्रेस ने जीएसटी लागू करने की घोषणा के लिए 30 जून की आधी रात को बुलाई गई संसद की विशेष बैठक का भी बहिष्कार किया था। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद, मल्लिकार्जुन खड़गे, जयराम रमेश, आनंद शर्मा और रणदीप सुरजेवाला ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कांग्रेस की आपत्तियों को साझा किया था। गुलाम नबी आजाद ने आजादी के कार्यक्रमों का हवाला देने के बाद देश में मॉब लिन्चिंग की घटनाओं, अल्पसंख्यकों, दलितों, महिलाओं पर होने वाले अत्याचारों को लेकर भी केंद्र और प्रदेश की बीजेपी सरकारों पर निशाना साधा था।
राष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष की उम्मीदवार मीरा कुमार के नाम के ऐलान और उनके नामांकन के वक्त राहुल गांधी विदेश में थे। राहुल को ही नीतीश के साथ कांग्रेस के गठबंधन की मुख्य वजह माना जाता है। राहुल के करीबी मानते हैं कि 2019 में अगर विपक्ष के किसी और नेता को पीएम बनाने की बात आई तो राहुल की पहली पसंद नीतीश हो सकते हैं। इससे भी राहुल और नीतीश की आपसी समझ का अंदाजा लगाया जा सकता है। इसीलिए विदेश से राहुल लौटे तो कांग्रेस ने आधिकारिक रूप से राष्ट्रपति चुनाव में नीतीश के रोल पर अपने तेवर नरम कर लिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *