‘उपवास’ को बीजेपी ने बताया ‘उपहास’

नई दिल्ली. जातीय और सांप्रदायिक हिंसा के विरोध में राजघाट पर रखे गए सामूहिक उपवास से पहले कांग्रेसी नेताओं का छोले भठूरे खाते हुए फोटो सामने आने के बाद बीजेपी ने चुटकी लेने में कोई कसर नहीं छोड़ी। बीजेपी नेताओं ने कांग्रेस की जमकर खिंचाई की और इसे कांग्रेस की नीति और नीयत से जोड़ते हुए जनता के साथ किया गया मजाक करार दिया।

सोशल मीडिया पर सबसे पहले कांग्रेस नेताओं का छोले भठूरे खाते हुए फोटो शेयर करने वाले बीजेपी प्रवक्ता हरीश खुराना ने कहा कि राजघाट पर कांग्रेस के कार्यकर्ता अपने नेताओं के आने का इंतजार कर रहे थे, ताकि उपवास का कार्यक्रम शुरू किया जा सके, लेकिन पार्टी के नेता सुबह सुबह एक रेस्तरां में बैठकर छोले भठूरे खा रहे थे। इससे यह साफ हो गया कि जो कार्यकर्ताओं को धोखा दे सकती है, वह देश की जनता साथ कितनी ईमानदार रहेगी। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने भी इसकी निंदा करते हुए कहा कि कांग्रेस के नेता खाए बिना रह नहीं सकते। इन लोगों ने उपवास जैसे पवित्र काम का भी उपहास (मजाक) बनाकर रख दिया। भारतीय परंपरा के अनुसार उपवास सूर्योदय से सूर्यास्त तक रखा जाता है, लेकिन इन लोगों ने तो पहले सुबह छोले भठूरे खाए और फिर तीन घंटे के लिए उपवास रखने का नाटक किया। ये लोग घंटे भर बिना खाए नहीं रह सके।
इस बीच जब कांग्रेस नेता अरविंदर सिंह लवली ने दावा किया कि उन लोगों ने सुबह 8 बजे नाश्ता किया था, तो जवाब में बीजेपी के मीडिया रिलेशन प्रमुख नीलकांत बख्शी ने ट्वीट कर बताया कि छैनाराम की दुकान तो खुलती ही 9 बजे है और कांग्रेस के नेताओं सुबह 9:37 बजे से 10:25 बजे तक वहां बैठकर नाश्ता किया था। बीजेपी सांसद विजय गोयल ने भी छोले भठूरे खाते हुए नेताओं की तस्वीर शेयर करते हुए लिखा ‘उपवास या उपहास?’ बीजेपी नेता प्रत्यूष कंठ ने कहा कि गांधी जी के लिए उपवास अंग्रेजों के खिलाफ आजादी की लड़ाई का एक महत्वपूर्ण हथियार था, लेकिन कांग्रेस नेताओं ने उसका भी मजाक बनाकर रख दिया। विपक्ष के नेता विजेंद्र गुप्ता ने भी कहा कि प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष व पूर्व मंत्री दलितों के नाम पर राजनीतिक रोटियां सेंक रहे हैं। ये दो घंटे के उपवास का नाटक कर रहे थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *