असली गुनहगार वे लोग हैं जो नफरत, खूनखराबा और डर का माहौल बना रहे हैं : उमर खालिद

नयी दिल्ली। लुटियन दिल्ली में कथित हमले के एक दिन बाद जेएनयू के छात्र नेता उमर खालिद ने आज कहा कि हमले के असली गुनहगार वे लोग हैं जो नफरत, खूनखराबा और डर का माहौल बना रहे हैं। फेसबुक पर एक पोस्ट में उन्होंने भाजपा प्रवक्ताओं और मीडिया को दोषी ठहराया, जो उन्हें ‘टुकड़े टुकड़े’ गैंग का हिस्सा बताते हैं। उन्होंने एक तस्वीर साझा की जिसमें वह पत्रकार गौरी लंकेश के साथ नजर आ रहे हैं। पिछले साल सितंबर में गौरी लंकेश की हत्या कर दी गयी थी।

उन्होंने लिखा है, ‘‘पिछले कुछ वर्षों में मुझे लगातार मिल रही जान से मारने की धमकी और एक के बाद एक कार्यकर्ता की हत्या देखकर पता नहीं क्यों मुझे लगता है कि किसी दिन एक बंदूक मुझ पर भी चलेगी।’’ उन्होंने कहा, ‘‘दाभोलकर, कलबुर्गी, पानसरे, गौरी लंकेश…हत्या की सूची लगातार बढ़ती जा रही है। लेकिन क्या मैं कह सकता हूं कि मैं इसके लिए तैयार हूं? क्या कोई कह सकता है कि वे इस हकीकत के लिए तैयार थे ? नहीं।’’

खालिद ने कहा कि तथ्य है कि स्वतंत्रता दिवस के महज दो दिन पहले राष्ट्रीय राजधानी के उच्च सुरक्षा वाले जोन में बंदूकधारी ने उनपर हमला किया। यह साबित करता है कि मौजूदा शासन में किस तरह कुछ लोगों को छूट मिली हुई है। उन्होंने कहा कि वह असल हमलावर को नहीं जानते लेकिन कहा कि वे असल गुनहगार नहीं थे।

फेसबुक पर पोस्ट में कहा, ‘‘असली गुनहगार वे हैं जो सत्ता की अपनी कुर्सी से नफरत, खूनखराबा और डर का माहौल पैदा कर रहे हैं। असल गुनहगार वे लोग हैं जिन्होंने हत्यारों और भीड़ के हमलावरों को पूरी तरह छूट दे रखी है।’’ खालिद ने कहा, ‘‘असल गुनहगार सत्ताधारी दल के वे प्रवक्ता और प्राइम टाइम के एंकर और टीवी चैनल हैं जो मेरे बारे में बेबुनियाद खबर फैला रहे हैं, झूठ के आधार पर मुझे देशद्रोही करार दे रहे और मेरे खिलाफ पीटकर मारने वाली भीड़ को उकसा रहे हैं।’’
खालिद ने कहा कि पिछले दो साल में उन्हें बिना किसी सबूत या आरोपपत्र के मीडिया ट्रायल का शिकार होना पड़ा है। उन्होंने पूछा, ‘‘मेरे नाम के आरंभ में टुकड़े टुकड़े जैसा हैशटैग क्यों जोड़ा गया, जबकि भाजपा नेता उनलोगों का खुलेआम समर्थन करते हैं जो कहते हैं कि अगर एक खास फिल्म रिलीज हुई तो वे देश के टुकड़े टुकड़े कर देंगे।’’ खालिद ने दिल्ली पुलिस ने सुरक्षा मांगी है और दावा किया कि पिछले दो साल में जब भी पुलिस सुरक्षा के लिए कहा है, उन्हें सख्त जवाब मिला है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *