अयोध्या में स्थापित होगी भगवान राम की विशाल मूर्ति : उप्र सरकार

लखनऊ। उप्र सरकार अयोध्या में भगवान राम की विशाल मूर्ति लगाने की तैयारी में है। माना जा रहा है कि यह भगवान राम की दुनिया की सबसे बड़ी मूर्ति होगी। इसके लिए प्रदेश सरकार एनजीटी से भी इजाजत लेगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इस बार दीपावली के एक दिन पहले अयोध्या में रहेंगे। वहां पर त्रेतायुग की थीम पर दीपावाली मनाई जाएगी। सीएम योगी आदित्यनाथ भगवान राम की शोभा का स्वागत करेंगे।
अयोध्या में रामलला के मंदिर का मसला भले ही सुप्रीम कोर्ट में अटका हो लेकिन विवादित स्थल से थोड़ी ही दूर सरयू के किनारे उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ भगवान राम की एक विशाल प्रतिमा स्थापित करेंगे। यह मूर्ति 108 फुट लंबी है। भगवान राम की यह मूर्ति दुनिया की सबसे बड़ी मूर्ति होगी। भगवान राम की यह प्रतिमा योगी सरकार की ‘नव्य अयोध्या’ योजना का एक हिस्सा होगी।
यही नहीं इस बार दिवाली के मौके पर जिसे भगवान राम के अयोध्या वापसी का दिन भी माना जाता है, योगी आदित्यनाथ खुद उनके स्वागत के लिए मौजूद होंगे। योजना है कि इस बार अयोध्या को दिवाली में वैसे ही सजाया जाए जैसा कि दिवाली के दिन त्रेतायुग में भगवान राम के लंका पर विजय हासिल करने के बाद सजाई गई थी। भगवान राम की अयोध्या वापसी की थीम पर एक भव्य शोभा यात्रा निकाली जाएगी जो छोटी दीपावाली पर दिन में करीब दो बजे अयोध्या में प्रवेश करेगी।
सीएम योगी आदित्यनाथ और उनका मंत्रिमंडल भगवान राम का पूजना वंदन करेगा। उसके बाद राम का राज्यभिषेक भी होगा। इस मौके पर इंडोनेशिया और थाईलैंड के कलाकार राम के अयोध्या के कलाकार राम के अयोध्या वापसी के प्रसंग का सरयू नदी के किनारे मंचन भी करेंगे। सरयू नदी और आसपास के इलाके की भव्य सजावट की जाएगी। इस दिन शाम को राम की पैड़ी पर एक लाख इकहत्तर हजार दिए जलाए जाएंगे।
गौरतलब है कि योगी के सीएम बनने के बाद अयोध्या लगातार सुखिर्यों में है। सीएम योगी खुद तीन बार यहां आ चुके हैं। अयोध्या और राम से जुड़े सभी स्थानों को विकसित करने की योजना बनाई गई है। योगी के सीएम बनने के बाद अब तक अयोध्या में राम मंदिर बनाने के लिए 14 ट्रक पत्थर पहुंच चुके हैं। राम मंदिर कायर्शाला जिन पर नक्काशी का काम लगातार चल रहा है। यूपी के प्रमुख सचिव पर्यटन अवनीश अवस्थी ने बताया कि राज्य सरकार की अयोध्या को विश्व पर्यटन मानचित्र पर लाने की योजना है। इसके लिए सरकार में बहुत सारी योजनाएं बनाई हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ छोटी दिवाली के दिन अयोध्या में खुद उन सभी योजनाओं की घोषणा करेंगे। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार अयोध्या में सरयू तट पर भगवान राम की 108 फुट ऊंची प्रतिमा स्थापित कराएगी।
इस प्रतिमा की स्थापना का काम एनजीटी की अनुमति मिलने के बाद शुरू होगा। प्रमुख सचिव पर्यटन अवनीश अवस्थी ने कल राज्यपाल राम नाईक से मुलाकात कर एक प्रजेंटेशन में इसकी जानकारी दी। इस दौरान पर्यटन विभाग की योजना ‘नव्य अयोध्या’ का प्रस्तुतिकरण दिया। इसमें 18 अक्टूबर को अयोध्या में छोटी दीपावली पर भव्य दीपोत्सव की रूपरेखा के साथ ही शहर के संपूर्ण विकास की योजनाओं का भी खाका रखा गया। इस योजना के मुताबिक, अयोध्या को पर्यटन मानचित्र पर लाने के लिए रामकथा गैलरी बनाई जाएगी। सरयू तट का विकास करने के साथ ‘रानी हो’ के स्मारक के सौंदर्यीकरण किया जायेगा। इसके साथ ही गुप्तार घाट (प्रभु राम का जल समाधि स्थल) का भी विशेष सुधार होगा। यहां के ही दिगम्बर अखाड़ा परिसर में बहुउद्देश्यीय प्रेक्षागृह का निर्माण किया जायेगा। राम की पैड़ी, पर्यटकों के ठहरने के स्थल जैसे कार्य भी इस योजना का हिस्सा है। योगी सरकार ने 18 अक्टूबर को छोटी दीपावली पर अयोध्या में भव्य दीपोत्सव की तैयारियां शुरू कर दी हैं। राम के राज्याभिषेक के साथ ही योगी सरकार वहां योजनाओं की घोषणा भी करेगी। प्रमुख सचिव पर्यटन अवनीश अवस्थी के मुताबिक, 18 अक्टूबर को रामकी पैड़ी पर 1,71,000 दीप जलाए जाएंगे।
इस दीपोत्सव कार्यक्रम में राज्यपाल, मुख्यमंत्री, पर्यटन मंत्री डॉ. रीता बहुगुणा, केंद्रीय पर्यटन राज्यमंत्री एल्फांस कंननथान, केंद्रीय संस्कृति राज्यमंत्री महेश शर्मा सहित स्थानीय सांसद, विधायक शामिल होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *